धोनी अपनी कप्तानी में.. रवि अश्विन ने बताया क्यूँ महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम जीत जाती थी आईसीसी खिताब और क्या कमी है रोहित-कोहली की कप्तानी में

भारतीय क्रिकेट टीम की गिनती दुनिया के सबसे सफल और खतरनाक टीम में की जाती है क्यूंकि भारतीय टीम के पास काफी शानदार खिलाड़ी है और ये खिलाड़ी काफी ज्यादा अच्छा प्रदर्शन करने का मादा रखते है। पिछले कुछ समय में भारतीय टीम ने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है।

 

हालाँकि भारतीय टीम पिछले कुछ समय से भारतीय टीम एक भी आईसीसी ट्राफी नही जीत पाया है और इसी कारण भारतीय टीम की काफी ज्यादा आलोचना भी होती है। इसी बीच अभी विश्वकप आने वाला है और भारतीय टीम का पूरा प्रयास होगा कि वो इस विश्वकप को जीत कर आईसीसी ट्रॉफी अपने नाम करे।

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि भारतीय टीम ने अपना अंतिम आईसीसी खिताब 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जीता था। महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने 3 आईसीसी ट्रॉफी जीती है और इसी कारण उनकी काफी ज्यादा तारीफ होती है। हालाँकि उनकी कप्तानी के बाद भारतीय टीम एक भी आईसीसी ट्रॉफी नही जीत पाई है।

रवि अश्विन ने बताया आईसीसी ट्रॉफी नही जीतने की वजह :

भारतीय टीम के महान स्पिनर रवि अश्विन (Ravi Ashwin) ने भारत को आईसीसी ट्राफी जिताने में काफी अहम योगदान निभाया था। वही इसी बीच अभी बातचीत के दौरान उन्होंने बताया की महेंद्र सिंह धोनी के कप्तानी के दौरान ही भारतीय टीम क्यूँ आईसीसी ट्राफी आसानी से जीत जाती थी।

उन्होंने अपने बयान में कहा कि “यह समझ में आता है कि भारत में इस बात को लेकर हंगामा है कि हमने 10 वर्षों में आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीती है। मुझे प्रशंसकों से सहानुभूति है. लेकिन सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया ये है कि इस खिलाड़ी को हटाकर उस खिलाड़ी को शामिल किया जाना चाहिए. लेकिन किसी खिलाड़ी की गुणवत्ता रातोरात नहीं बदलती. हममें से बहुत से लोग एमएस धोनी के नेतृत्व के बारे में बात करते हैं।

अश्विन (Ravi Ashwin) ने आगे कहा “उसने क्या किया? उन्होंने इसे बहुत सरल रखा। उनके शासनकाल में, जहां मैं भी खेला करता था, वह 15 लोगों की एक टीम चुनेंगे। 15 और एकादश की वही टीम पूरे साल खेलेगी। एक खिलाड़ी के लिए सुरक्षा की भावना बहुत महत्वपूर्ण है।

Leave a Comment

Priyanshu Kumar, a seasoned cricket author, brings five years of experience, delivering captivating insights and engaging narratives to cricket enthusiasts.