CSK को चैंपियन बनाने के बाद अब विश्व कप में श्रीलंकन टीम की नैय्या पार लगाएगा MS Dhoni का लाडला, बाक़ी टीमों की हालत अभी से ख़राब

2023 के आईपीएल में महेंद्र सिंह धोनी की टीम चेन्नई सुपर किंग्स ने 5वीं दफ़ा ट्रॉफी पर कब्ज़ा जमाया और मुंबई इंडियंस की बराबरी पर पहुँच गए। इस दौरान चेन्नई की तरफ से कई खिलाड़ियों ने कमाल का प्रदर्शन किया। लेकिन इन सब में बेबी मलिंगा के नाम से मशहूर मथीशा पथिराना ने विशेष रूप से लोगों पर अपना प्रभाव छोड़ा।

वर्ल्डकप क्वालीफायर में पथिराना की एंट्री

अब खबर यह आ रही है कि आने वाले एकदिवसीय विश्वकप में यह युवा खिलाड़ी अपने जलवे बिखेरते हुए नजर आने वाले हैं। दरअसल 18 जून से लेकर 9 जुलाई तक श्रीलंकन टीम वर्ल्डकप क्वालीफायर खेलने वाली है। इस टीम के 15 खिलाड़ियों में पथिराना को भी शामिल किया गया है।

टॉप 2 की जगह पाने को 10 टीमों में मुकाबला

बता दें कि वर्ल्डकप क्वालीफायर का आयोजन जिम्बाब्वे में किया जाएगा। जिसमें कुल 10 टीमें भाग लेती नजर आएंगी। लेकिन इनमें से टॉप 2 टीमों को ही विश्वकप में भाग लेने का मौका मिलेगा। इन 10 टीमों में शामिल हैं यूएई, श्रीलंका, स्कॉटलैंड, जिम्बाब्वे, ओमान, आयरलैंड, नेपाल, यूएसए, वेस्टइंडीज और नीदरलैंड।

धोनी से सीखे दांवपेंच, अब अपने देश का नाम करेंगे रौशन

देखना दिलचस्प होगा कि मथीशा पथिराना इस महत्वपूर्ण मौके पर अपनी टीम के कितने काम आ पाते हैं। ज्ञात हो कि आईपीएल के दौरान इस गेंदबाज ने एमएस धोनी के नेतृत्व में अपने ऊपर काफी मेहनत की थी और ऐन मौकों पर टीम के लिए विकेट चटकाए थे। चाहे मिडल ओवर्स में रन रोकना हो या फिर डेथ ओवर्स में बल्लेबाजों का शिकार करना हो, इस गेंदबाज ने बहुत कम समय में खुद में अकल्पनीय सुधार किए थे।

पथिराना पर टिकी हैं करोड़ों फैंस की उम्मीदें

अब श्रीलंकन टीम और फैंस की उम्मीदें पथिराना पर टिकी हुई हैं, वे चाहेंगे कि आने वाले वर्ल्डकप क्वालीफायर में भी पथिराना वैसे ही प्रदर्शन करें जैसा आईपीएल सीजन में किया था। अगर वह ऐसा करने में कामयाब हो पाते हैं तो श्रीलंकन टीम के स्थाई और महत्वपूर्ण सदस्य बनने से उन्हें कोई नहीं रोक सकता

Leave a Comment

I am associated with Cricket Reader as an Editor in Chief, since 2019. I have full dedication to write content on cricket analysis. I take care of all the news operations like content, budget, hiring and policy making.